Home » Arts & Literature » अहसास
अहसास

अहसास

अहसास

अहसास आकर बगल में लेटा,
लिपटा, चूमा, हंसी बिखेर गया।

यूं लगा झौंका प्यार का आया,
पतझड़ में मौसम बहार का लाया,
पत्ते अब तक जो सूख रहे थे,
उनपर अचानक निखार आया ,
महसूस कर यह ख्याल आया,
जो दूर था वो पास आया।

बिन छूए, बिन देखे, लेटी खोई खोई,
बेसोच दिल में यह ख्याल आया,
नज़रों से परे, निगाहों में सिमटे,
मन की लहरों में खुमार आया,
जो मुद्दतों से कभी पास न था,
वो अहसास आज वापस आया।

थामे इसे उठ कर मैं चली,
डगरी-डगरी गली-गली,
हम खेले कूदे साथ-साथ,
हर पग, हर पल, हर घड़ी,
वो जाने लगा, किया मैंने ईशारा,
अहसास फिर से लौट आया।

है खुद का यह अहसास,
झौंका प्यार का है यह,
आता है जाता है कुछ पल,
रुला कर हंसी लाता है यह,
पास अपने बुलाओ तो ,
आँखों में सिमट जाता है यह।

अहसास आकर बगल में लेट जाता है यह,
लिपटता, चूमता, हंसी बिखेर जाता है यह,
अहसास तेरा जब पास आता है यह,
अहसास तेरा अहसास मेरा यह।

© डा. मोनिका सपोलिया, मोंट्रियाल (कैनाडा)
भारत टाइम्स संपादक

Click here to Read more Poetry

ढूंढे कहाँ तूं जग में

अहसास

Ahsaas

Ahsaas aakar bagal mein leta
lipta, chuma, hansi bikhair gaya.

Yoon laga jaunka payar ka aaya,
patjhar mein mausam bahar ka laya,
patte ab tak jo sookh rahe the,
unpar achanak nikhar aaya,
mahsoos kar yeh khayal aaya,
jo door tha vo paas aaya.

Bin chooye, bin dekhe, leti khoi khoi,
besoch dil mein yeh khayal aaya,
nazron se pare, nigahon mein simte,
man ki lahron mein khumar aaya,
jo muddaton se kabhi paas na tha,
vo ahsaas aaj vapas aaya.

thame ise uth kar main chali,
dagri-dagri gali-gali,
hum khele kude sath-sath,
har pag, har pal, har ghari,
vo jaane laga, kiya maine ishara,
ahsaas phir se laut aaya.

hai khud ka yeh ahsaas,
jaunka payar ka hai yeh,
aata hai jaata hai kuch pal,
rula kar hansi lata hai yeh,
paas apne bulao to
aankhon mein simat jata hai yeh.

ahsaas aakar bagal mein late jata hai yeh,
lipata, chumta, hansi bikair jata hai yeh,
ahsaas tera jab paas aata hai yeh,
ahsaas tera ahsaas mera yeh.

© Dr. Monika Spolia
Editor, Bharat Times
Montreal, Canada

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About Monika Spolia

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*