Home » Blog » Ahem

Ahem

Email

Manjit-Singh-Ottawa.jpg

Ahem
Main ahem tha
Bas mujh ko
Yeahi Ik veham tha
Ta umar lag gayi
Jis ko pane mein
Pal bhi na laga
Use phir gawane mein
Main ahem tha

Bas mujh ko

Yeahi Ik veham tha …2

*******

अहम्

मैं अहम् था
बस मुझको
यही इक वहम था
सारी उम्र लग गयी
जिस को पाने में
पल भी न लगा
उसे फिर गंवाने में
मैं अहम् था

बस मुझ को
यही इक वहम था।

बस मुझ को
यही इक वहम था।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About Manjit Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*